हम से दीवाने दुनियाँ में ढेर आते नहीं है!

तुमसे यूँ कुछ जुड़ गयी है ज़िंदगी ये हमारी
जहाँ ठहरो तुम, वहाँ से आगे कहीं हम जाते नहीं है,
तुम्हारी यादों को जकड़े आगोश में बैठते है,
ढील पल दो पल भी हो तो सिहर जाते वही है,

तुम्हारी आँखों में डूब जाते है इस कदर हम,
देख तुम को ही हम फिर पाते नहीं है,
कह सके तुमसे कुछ इस हाल तक में भी नहीं हम
बिन तुम्हारे लब कुछ बोल पाते नहीं है

सोचते है तुम्हारे बारे में जब भी हम,
लमहे, चाँद, तारे सब सो जाते कही है,
होश में आये जब तक वो दुनिया के लिए जो हम है,
लोग कहते है हम फिर से खो जाते कहीं है

अजीब एक एहसास तुम्हारा साथ हमेशा हमारे,
तुम बिन यूँ भी हम, हम कहलाते नहीं है,
ना गुम होने देता है ना संभाले तुम्ही सा,
इस एहसास के संबल से चले जाते कहीं है

ठहराव भी ना चाहे, ना हर पल बदलती ज़िंदगी,
तुम ही से खुद तो समझ पाते हम कभी है,
साथ हर कदम पर तुम्हारा चाहते है हम ये तो जानें,
देखे ऐसी किस्मत लिखवा कर भला कब आते हम ही है

जान लो जान मेरी जान देते है तुम पर हम,
तुम्हें देखे बिन जी हम पाते नहीं है,
साँसे तो हम भी लेते है पर तुम ये ना जानो,
हवाओं से हम है लड़ते, जब आहट तुम्हारी इनमें पाते नहीं है,

खामोश रहकर बयां करते है वफ़ा हम,
हया से झुकी हो निगाहें तो समझ लेना,
इश्क तो करते है बे-इन्तेहाँ तुमसे हर पल,
बस ऐसी है फितरत, कह पाते नहीं है

खो जाना तुम्हारी बाँहों में ख़्वाब है एक हमारा,
नम जो हो पलकें, होंठ काँप जायें, सांसें रुकी हो,
देखे तुम्हें, तुम में खो बस हम जाएँ,
हम से दीवाने दुनियाँ में ढेर आते नहीं है

ले जाओ हमे साथ अपने, ले जाओ अब ना ठहरो,
ले जाओ अब कमी तुम्हारी इतनी खलनी लगी है,
दूरियाँ ये हमको निगलने लगी है,
हसतें भी हैं, मुस्कुराते है, जी भी लेते है यूँ तो,
बिन तुम्हारे पर ये रोज़मर्रा की बातें,
एक काँटे सी दिल में जाने क्यूँ चुभने लगी है,

हम ये भी कहते नहीं की खंज़र हवा है,
पर खुश रहे तुम बिन, कैसी ये सजा है ?
याद करके जीते है तुम्हें रात दिन हम,
खुद से वादे कितने झूठे सच्चे करते यूँ ही हम,
बहलाते हैं, याद दिलाते है,
तुम हो साथ हर पल, ये खुद को बतलाते है,
लमहे, दिन, महीने गुज़र तो रहे है,
जब सब ये भाव साथ मिल जाएँ, घड़ी वो,
बस उससे, हाँ उसी से डरते है,
वरना जीत सकते है और जीत लेंगे हर मुश्किल,
बस तुम्हें बताना चाहते थे दिल की बातें,
रोज़ अरमान दिल के लफ्जों में जगह पाते नहीं है,
हम से दीवाने दुनियाँ में ढेर आते नहीं है!

Advertisements

2 thoughts on “हम से दीवाने दुनियाँ में ढेर आते नहीं है!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s