Tag Archives: Poetry

भला भागीरथी क्यों न रूठे

Written in view of the Kedarnath cloud burst event, on the prompt mentioned in the subject


kedarnath

आज से कुछ अठारह वर्ष पहले, मैं गयी थी हरिद्वार
इतनी विशाल नदी, विशाल तट, मैंने देखा था पहली बार
एक नन्ही बालक थी मैं, देख रही थी भाव विभोर
ढूँढ रही थी नीला रंग वो, सुना था जिसका अति विस्तार

तब कुछ दूर नज़रे ले जाने पर, वो रंग ढूँढ मैं पायी थी
अधिक सोच कुछ सकी नहीं मैं, दादी वापिस लेने आई थी

कुछ बढ़ी, कुछ पढ़ी, धीरे से मेरे विश्व ने लिया आकार
तब ढूँढा फिर वो रंग मैंने, आकाश में, सागर के तट पर
अखबारों में पढ़ा की यमुना नाले सी हो आई है
पर मेरे दिल में वही नदी थी, वही रंग और उससे प्यार

जब समय मिला तो उस नदी को पढ़ने मैं उसके तट पर आई थी
आंसू ढलक पड़े गालो पर, उसके तट पर जमी बड़ी काई थी

किताबें ली, पढ़ा की पीने का पानी, वहीँ से पाता है हर घर बार
तब मैं समझी बोर वैल पर, फ़िल्टर की दुकानो पर लगी कतार
फिर एक तस्वीर में संध्या आरती, देखी बनारस के घाट की
तैर रहे थे कागज़, फूल, पत्ते, दोने, द्वीप, पानी में बहने को तैयार

आरती से, रोशनी से, सुकून मिला था, पर आँखें फिर भर आई थी
निर्मल नदी में वो सब जैसे, एक सुंदरी के मुख पर मैली झाई थी

बढ़ी और कुछ, भूल गयी मैं पानी, भूल गयी नदियों का संसार
कुछ माह पहले तक, जब सुना गंगा के कहर पर हाहाकार
बाईस लोग एक भाभी के घर से, केदारनाथ को निकले थे
न वो वापस आये और न जाने कितनो पर हुआ वैसा संहार

तब नम आँखों को मैंने मूंदा, मुझे मैली गंगा यमुना दिखाई दी
कानो में “भला भागीरथी क्यों न रूठे”, आवाज़ मुझे सुनाई दी

भक्ति हो, अर्चना हो, हो हमारी कला, संस्कृति का प्रचार
पर मैं नहीं चाहती, नर, पशु, वृक्ष, बन जाएँ दुर्दशा के आहार
कर जोड़ प्रार्थना सुन लो, ए विश्व, हैं समय आज भी
वार्ना प्रकृति पहले थी, पहले हैं उसका विश्व पर अधिकार

इस विनाश से सीखा कुछ हो, ऐसी इच्छा दिल में आई थी
आँखों में वो नीला रंग था, कानो में शंख ध्वनि बज आई थी

On being a woman

WomenWrote this as a part of the “Training of Trainers” workshop on Human Rights in Delhi, Feb 2013.


I am privileged if I am born alive,

Not because I was unhealthy, but because one day I might be,

a sister, a mother or a wife.

I count my blessings, if fed as I please

The delicacies are for my brother, who just knows how to tease

I feel I am on cloud nine, as I can express while I write

Many of my gender haven’t seen a blackboard or chalk white

I do the chores, while sports are for male cousins

For my entertainment, household work gets different versions

I can’t decide in which school, college, course can I enrol

The money isn’t enough, making decisions is not my call

Who, when and how I marry, is decided by the family

The decision is less on compatibility, more on account tally

Domestic violence, sexual violence, rape, unpaid domestic work are part of my life

I can’t talk about them for the fear of being labelled a feminist, I can’t discuss my strife

This has continued since long lost time

This will continue until I stand up and comment

Unless I ponder, I discuss, I decide

Unless I seriously take up the cause of women empowerment

As long as I bend to others’ wish

This subjugation will continue, it will remain

Till the time I stand up and fight

I would have to bear the pain

The freedom won’t come from someone outside

It will be me, who will have to decide

The cause, the idea, the action plan

And then only would I rightly say, I can!

It shouldn’t just be upto my female friends to help

My other gender friends should also respond to the yelp

Maybe that will lead the change

Maybe then I will smile

I will wait for your support

All this while!

From Here to There

It is tough to observe the changes
It is weird to explain the reasons
It is impossible to justify the actions
It is crazy to dispel the notions

It is best left to the judgment of the preying eyes
It is easy to accept the rumours then to expose the lies
It is simple to hold a cigarette and blow the smoke away
Then having to wipe off the ashes, scattered away in the skies

The beauty of the solitary moon in the starlit sky
The crashing waves, the slapping breeze, the feeling of being high
Do something to enchant me, tear me up, make me cry
Every whisper makes me open up and then it makes me shy

Observations of this enigmatic beauty, is that for which I pine
Explanation of the inexplicable is the call that in my mind is mine
Justification of this craving and the calling eludes others, makes me whine
This is why the notions remain and on rumours they choose to dine

Does it matter? Do I care?
Am I wary of the stares?
“Hell Yeah” and “Heck No” keep oscillating
They’ll remain as is,
Till all souls lay bare
Till all can sit and share
Till common is every “rare”
From here to there!

अब तो यूँ लगता है, की हम हम नहीं हैं

यों तो जिंदगी में गम कई हैं
हस्ते हुए चेहरे हैं पर आँखे नम कई हैं
हर रोज़ चौराहे पर आते जाते देखा है
इंसान एक भी नहीं, हाँ शख्स कई हैं

दिल के कोनो में छुपे हुए राज़ न खोलने को कहो,
की इन्हें समेटने के लिए सागर की गहराई कम कहीं है
जंग एक होती है हर शाम -ओ- सेहर इनकी,
कभी आंसू तो कभी आहें, वक़्त कम नहीं है

जब कहते है कुछ, तो इशारों से हैं समझाते
न कहो तो कहते है, की दम नहीं है
हर लम्हा घुटकर नयी सांस का होता है इंतज़ार
थी जिसकी चाहत वो आगे, हम वहीँ हैं

ठहर कर वक़्त को भी रोक लेना आदत थी हमारी
अब तो यूँ लगता है, की हम हम नहीं हैं
बुराई और भलाई के फासले भूल बैठे
क्या करे अलफ़ाज़ एक, मायने कई हैं

क्यों न करे शिकायत, कहा था कभी खुद से
समझ आया की दिल था गलत, हम सही हैं
मत भूलना की भूल जाने की भूल न हो सकी हमसे
यादों में बसे पल, बस पल वही हैं

अब तो यूँ लगता है, की हम हम नहीं हैं…
रचना

 

A Journey

A journey full of obstacles,
Hindrances at every path,
No one to show you the way,
No brightness of sun or stars.
Darkness all around,
A deafening sound of silence,
Every creature in its most weird form
As if it has got a haunting license.
A strange but tight grip of fear,
Everyone in despair,
So many evils around
People with dusty eyes, matted hair
Pebbles lying around, some white some black
Some are grey, can’t tell for sure
Lying at every other step
Spiders on them, in most threatening lure
Trees so big,
Forests so dense
All those passing by
Wearing a gesture of seeming so tense
Large crowd of moaning people
Not exchanging a single word
Reptiles creeping over the ground
Even birds looking absurd
Strange though it may seem,
I am able to see a beam
Of a very pure white light
I am enchanted by its very sight
No, I am not describing
Journey to a place after death
It is my dear, journey of life
Full of mysteries around, full of strife
And the sacred light
Symbolizes the beauty of soul
That gives you the power, o mighty man,
To go on, in this world so foul
So, go on, go ahead
Go ahead, on this journey of life,
Full of happiness, yet full of strife!